Sandhi Viched

सन्धि विच्छेद – Sandhi Viched

Sandhi Viched: हेलो दोस्तों, इस आर्टिकल में हम आपको  सन्धि शब्द किसे कहते है के बारे में विस्तार से बताएंगे | स्कूल और प्रतियोगी परीक्षाओ में इससे बाहर कोई भी प्रश्न नहीं पुछा जायेगा तो इस आर्टिकल को अच्छे से पढ़े |

Sandhi Viched

यदि आप हिंदी भाषा में संधि, के बारे में विस्तृत ज्ञान चाहिए तो आप उसके लिए यह लेख पूरा पढ़ें और यहाँ पर बहुत विस्तृत रूप से संधि कि परिभाषा दी गई है।

सन्धि विच्छेद

दो वर्णों के मेल से उत्पन्न विकार को संधि कहते है |

या

दो शब्दों के मेल से बने शब्द को पुनः अलग अलग करने को संधि विच्छेद कहते हैं। अर्थात संधि शब्दों को अलग अलग करने को संधि विच्छेद कहते हैं

विच्छेद का अर्थ है पृथक करना।

जैसे –

हिम + आलय (अ   + आ)

हिम + (अ + आ) + लय

हिमा आ लय (‘म‘ के साथ ‘आ‘ का संयोग होने पर ‘हिमा‘ बना)

अब ‘हिमा‘ और ‘लय’ दोनों को मिला देने पर ‘हिमालय बना।

  • देव + आलय  = देवालय
  • मनः + योग    = मनोयोग
  • जगत + नाथ  =जगन्नाथ

संधि तीन प्रकार की होती है

१ स्वर संधि  

२ व्यंजन संधि 

३ विसर्ग संधि

स्वर संधि

स्वर के बाद स्वर अर्थात दो स्वरों के मेल से जो विकार परिवर्तन होता है स्वर संधि कहलाता है। स्वर संधि के पांच भेद है १ दीर्घ संधि , २ गुण संधि  , ३ यण संधि , ४ वृद्धि संधि , ५ अयादि संधि।

व्यंजन संधि

व्यंजन का व्यंजन अथवा किसी स्वर के समीप होने पर जो परिवर्तन होता है , उसे व्यंजन संधि कहते हैं।

विसर्ग संधि

विसर्ग के बाद जब स्वर या व्यंजन आ जाये तब जो परिवर्तन होता है उसे विसर्ग संधि कहते हैं।

इन्हे भी पढ़े:

credit:DIVYAGYAN

आर्टिकल में अपने पढ़ा कि Sandhi Viched  किसे कहते हैं, हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.