Vyanjan Sandhi

व्यंजन संधि किसे कहते है?-Vyanjan Sandhi

Vyanjan Sandhi: हेलो दोस्तों, इस आर्टिकल में हम आपको व्यंजन संधि किसे कहते है के बारे में विस्तार से बताएंगे | स्कूल और प्रतियोगी परीक्षाओ में इससे बाहर कोई भी प्रश्न नहीं पुछा जायेगा तो इस आर्टिकल को अच्छे से पढ़े |

Vyanjan Sandhi

संधि का मतलब होता है ‘मेल’। जब दो वर्णों के परस्पर मेल से जो तीसरा विकार उत्पन्न होता है उसे संधि कहतेVyanjan Sandhi हैं। संधि ध्वनियों का मेल होता है। जब दो शब्दों का मेल किया जाता है तो पहले शब्द के आखिरी अक्षर दूसरे शब्द के पहले अक्षर के बीच में परिवर्तन होता है।

व्यंजन संधि किसे कहते है?

व्यंजन के बाद यदि किसी स्वर या व्यंजन के मेल से  जो विकार उत्पन्न होता है वह व्यंजन संधि कहलाता है।

जैसे – अभि +सेक = अभिषेक

व्यंजन संधि के नियम  

  • यदि म् के बाद कोई भी व्यंजन म तक हो तो उसी वर्ग का अनुसार लिखा जाता है ।

उदाहरण – सम्+पादक = संपादक, किम्+ तु = किंतु, सम्+कलन = संकलन

  • यदि सम्+’कृ’ से बने शब्द जैसे- कृत,कार,कृति,कर्ता,कारक आदि बने तो म् का अनुस्वार तथा बाद में स् का आगम हो जाता है।

उदाहरण– सम्+कर्ता = संस्कर्ता, सम्+करण =संस्करण

  • यदि क्, च्, ट्, त्, प् के बाद किसी तीसरा या चौथा वर्ण या य्, र्, ल्, व् हो या कोई स्वर हो तो उस वर्ग का तीसरा वर्ण बन जाता है।

उदाहरण – वाक्+ईश = वागीश, अच्+अंत = अजंत, अप्+ज = अब्ज

  • अगर म् के बाद कोई भी अन्तस्थ व्यंजन (य्,र,ल,व) या कोई भी ऊष्म व्यंजन (श्,स,ष,ह) हो तो म् अनुस्वार हो जाता है।

  उदाहरण   – सम्+मति = सम्मति, सम्+सार = संसार

  •  अगर स व्यंजन से पहले अ,आ से अलग कोई  स्वर आ जाए तो स का ‘ष’ हो जाता है।

उदाहरण – सु+सुप्ति = सुषुप्ति, अनु+संगी = अनुषंगी

  • यदि किसी स्वर के बाद छ वर्ण आ जाये  तो छ से पहले च् वर्ण जुड़ जाता है ।

उदाहरण   – अनु+छेद = अनुच्छेद, परि+छेद = परिच्छेद

  • यदि ऋ,र्, ष् के बाद न् व्यंजन आ जाता है तो वह ण् हो जाता है।

उदाहरण   – परि+नाम = परिणाम, प्र+नेता = प्रणेता, भूष+न = भूषण

  • यदि वर्ण क्, च्, ट्, त्, प् का मेल न् या म् वर्ण से होता है तो उसके स्थान पर उसी वर्ग का पाँचवाँ वर्ण हो जाता है। 

उदाहरण – षट्+मास = षण्मास, उत्+नायक = नायक, षट्+मुख = षण्मुख

  • यदि ष् के बाद टी हो और ष् के बाद थ हो तो टी का ट तथा थ का ठ हो जाता है।

उदाहरण  – सृष्+ति = सृष्टि, तुष्+त = तुष्ट

इन्हे भी पढ़े:

credit:STUDY 91

आर्टिकल में अपने पढ़ा कि Vyanjan Sandhi किसे कहते हैं, हमे उम्मीद है कि ऊपर दी गयी जानकारी आपको आवश्य पसंद आई होगी। इसी तरह की जानकारी अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे ।

Leave a Comment

Your email address will not be published.